संजीव बालियान ने राजस्‍थान में भाजपा की व‍िपक्ष की भूमिका पर सवाल उठाया

Share this article

बालियान ने लम्पी संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘वे(गहलोत) तो राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के लिये बाहर घूम रहे हैं और यहां जो भी बात आप पूछते है तो कहा जाता है कि केंद्र सरकार नहीं कर रही है।’

केंद्रीय पशुपालन राज्य मंत्री संजीव बालियान ने राज्‍य में विपक्ष के रूप में भारतीय जनता पार्टी की भूम‍िका पर सवाल उठाया और कहा कि ‘‘हम अगर (राज्‍य में) यह भूमिका निभा लेते तो मुझे यहां आने की जरूरत कहां पड़ती।
प्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर आए बालियान ने कहा, ‘‘विपक्ष की भूमिका यह होती है कि सरकार के गलत काम या कारनामे जनता के सामने उजागर करे.. और यह भूमिका हम अच्छी तरह निभायेंगे।’’

जब उनसे पूछा गया कि राज्‍य में (मुख्‍य विपक्षी दल भाजपा) साढ़े तीन साल से क्यों नहीं निभा पाये तो बालियान ने कहा, ‘‘अगर साढ़े तीन साल से निभा लेते तो मुझे आने की कहां जरूरत पडती। ’’
बालियान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘राजस्थान में मुख्यमंत्री ही नहीं पूरी कांग्रेस बदलनी चाहिए और भाजपा आनी चाहिए।’’
यह पूछे जाने पर कि राजस्थान में आगामी चुनाव में भाजपा का चेहरा कौन होगा, इस पर केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि यह बात तो मैं नही बता सकता.. ना ही मेरे अधिकार क्षेत्र में है.. यह बात तो मेरा केन्द्रीय नेतृत्व तय करेगा कि कौन चेहरा होगा।

बालियान ने लम्पी संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘‘वे(गहलोत) तो राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के लिये बाहर घूम रहे हैं और यहां जो भी बात आप पूछते है तो कहा जाता है कि केंद्र सरकार नहीं कर रही है।’’
उन्होंने कहा, ‘‘गहलोत साहब को किस बात के लिये कुर्सी पर बिठा रखा है.. गहलोत साहब लम्पी चर्म रोग केन्द्र सरकार करेगी,डीएपी, यूरिया केंद्र सरकार करेगी, नहरी योजना केन्द्र सरकार करेगी तो गहलोत साहब को क्यों बैठा रखे है.. गहलोत साहब को विदा कर दीजिये।’’

बालियान ने बृहस्पतिवार को दौसा जिला कलेक्ट्रेट में लोकसभा सांसद जसकौर मीणा की उपस्थिति में ज‍िला कलेक्टर एवं अधिकारियों के साथ पशुओं में लंपी बीमारी की व्यवस्था, डीएपी यूरिया की समस्या एवं विभिन्न सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन एवं प्रगति पर विस्तृत चर्चा की तथा इनके निस्तारण के लिये निर्देश दिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।